Thought of the day

Thursday, 11 October 2007

ईश्वर का अस्तित्त्व

अभी हाल ही में मैंने किसी पोस्ट का उत्तर देने के लिए एक लेख लिखा । मुझे लगा कि शायद वे शब्द आम आदमी तक पहुँचने चाहिए । यह मेरे उस लघु-लेख से उद्धृत है ।

... पृथ्वी को भगवान ने नहीं बनाया - आपने बताया ? किस वैज्ञानिक ने अपनी laboratory में बनाया है पृथ्वी को ? अब मुझसे Big Bang Theory मत discuss करना । क्योंकि तब मेरा सवाल होगा कि वो पिण्ड कहाँ से आए । वो तो कम से कम पृथ्वी पर नहीं बने ...

... ईश्वर किसी रूप का नाम नहीं । किसी व्यक्ति का नाम नहीं । आसानी से कहना हो तो ईश्वर को प्रकृति कह लो । पर सच यह भी है कि ईश्वर उस प्रकृति की भी प्रकृति का नाम है। रूप तो आस्था को स्थिर करने का तरीका है । चाहे उसे मन्दिर, मक्का, गुरुद्वारा, चर्च कहीं ढूंढों, खोजो । ये स्थान आस्था-पुञ्ज हैं ।

आज विज्ञान बेचारा सिर्फ सौरमण्डल तक या आकाश गंगा की कल्पना तक पहुंच सका है । फिर एक सिद्दांत आज बनाते हैं कुछ सालों बाद टूट जाता है ।

विज्ञान नही था, इंसान नहीं था, पृथ्वी - सौरमण्डल - आकाशगंगा नहीं थी, तब भी कुछ था ...
Related Articles:


No comments:

Post a Comment

Thanks for your comments
Sanjay Gulati Musafir

Copyright: © All rights reserved with Sanjay Gulati Musafir